जिलाधिकारी महोदय श्री रमाकांत पांडे की आवश्यक बैठक बिजनौर

बिजनौर बिजनौर उत्तर प्रदेश

सभी नगर निकायों में पानी का ओटी टैस्ट और रोस्टर के अनुसार फोगिंग कार्य कराए जाने पर संतोष, 31 अक्तूबर के बाद भी सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में निर्धारित रोस्टर के अनुसार नियमित रूप से साफ सफाई, फोगिंग तथा एन्टी लार्वा का छिड़काव जारी रखें, ताकि वेक्टर जनित रोगों के संक्रमण पर नियंत्रण बना रहे-जिलाधिकारी रमाकांत पाण्डेय

जिलाधिकारी रमाकांत पाण्डेय ने निर्देश दिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी कि टीकाकरण कार्य में मानक के अनुरूप प्रगति लाएं और एमओआईसी तथा एएनएम सहित अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों को निर्देशित करें कि एनआरसी में कुपोषित बच्चों को भर्ती कराएं। उन्होंने सचेत करते हुए कहा कि लापरवाही के कारण जिले में एक भी बच्चा कुपोषण से ग्रस्त न रहने पाए और यदि किसी बच्चे में कुपोषण के लक्षण पाए जाते हैं, तो उसे तत्काल एनआरसी में दाखिल कराएं ताकि उसका उचित उपचार किया जा सके। उन्होंने सभी नगर निकायांे में पानी का ओटी टैस्ट और रोस्टर के अनुसार सफाई कार्य के साथ-साथ फोगिंग एवं एन्टी लार्वा का छिड़ाव कार्य कराए जाने पर संतोष व्यक्त करते हुए निर्देश दिए कि इन कार्याें को नियमित रूप से जारी रखें, ताकि डेंगू, मलेरिया आदि संक्रमित रोग पनपने न पाएं। उन्होंने कहा आगामी माह नवम्बर में विशेष रूप से सर्तकता बरती जाए क्योंकि इस माह में संक्रमित रोगों के फैलने का खतरा बना रहता है। उन्होंने उपस्थित सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिए कि नगर अथवा नगर के बाहर किसी भी अवस्था में कुड़ा न जलाएं और न ही जलने दें।


जिलाधिकारी रमाकांत पाण्डेय आज अपरान्ह 04ः30 बजे कलैक्ट्रेट सभागार में आयोजित राष्ट्रीय वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत संचारी रोग नियंत्रण अभियान के द्वितीय चरण को सफलतापूर्वक संचालित करने के उद्देश्य से तृतीय अंतर्विभागीय समन्वय समीक्षात्मक बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देश दे रहे थे।
उन्होंने बताया कि शासन द्वारा संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने के लिए अंर्तविभागीय समन्वय के साथ कार्य योजना के अनुसार आपस में सामंजस्य स्थापित कर परस्पर सहयोग करते हुए एक टीम के रूप में कार्य कर इस अभियान को शत प्रतिशत रूप से सफल बनाने का प्रयास कर रहे हैं ताकि जिले से संचारी रोगों जैसे मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया आदि रोगों पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित हो सके। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियांे को निर्देश दिए कि एएनएम एवं आशाओं को अपने स्तर से निर्देशित करें कि वे अपने कार्य क्षेत्र में घर-घर जाकर जन सामान्य को स्वच्छता के प्रति जागरूक करें, क्योंकि संचारित रोगों का मुख्य कारण गंदगी होता है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि संचारी रोग उन्मूलन सहित शासन द्वारा संचालित सभी स्वास्थ्य योजनाओं एंव कार्यकमों को पूरी गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ संचालित करना सुनिश्चित करें ताकि जन सामान्य भरपूर लाभ प्राप्त कर सकें।
जिलाधकारी श्री पाण्डेय ने समस्त अधिशासी अधिकारी नगर निकाय को निर्देश दिये कि वह रोस्टर के अनुसार शहर के अन्दर विशेष साफ-सफाई व मच्छरों के मारने के लिए फाॅगिंग तथा लार्वासाइड का छिड़काव कराना 31 अक्तूबर के बाद माह नवम्बर में भी जारी रखें और ताकि संक्रामक रेागों विशेष रूप में मलेरिया, डेगंू, चिकनगुनिया जैसे संचारी रोगों से बचाव सम्भव हो सके, इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्हांेने संबंधित विभागीय अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि संचारी रोग नियंत्रण अभियान के अंतर्गत संचालित की जाने वाली गतिविधियों में कोविड-19 से संबंधित सभी नियमों का अनुपालन पूरी गंभीरता के साथ सुनिश्चित करायें।
इस अवसर पर नोडल अधिकारी/जिला मलेरिया अधिकारी बृजभूषण द्वारा कार्यक्रम का संचालन करते हुए कार्यक्रम की प्रगति तथा वैक्टर जनित रोगों के प्रसार एवं नियंत्रण के उपायों पर विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराई गई।
इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी कामता प्रसाद सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ विजय कुमार यादव, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी डा0 भूपेन्द्र सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी सतीश कुमार, समस्त अधिशासी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों के अलावा महिला एंव बाल कल्याण सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

 

Share News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *